माउस किसे कहते है | भाग | प्रकार | उपयोग

माउस क्या है या किसे कहते हैं इसका पूरा नाम और यह कैसे काम करती है इसके प्रकार mechanical mouse , optical mouse, wireless mouse, trackball , stylus mouse, तथा इसकी बिशेषताये लाभ या हानि सब इस पेज पर हैं।

Mouse एक इनपुट डिवाइस है जो हमें कंप्यूटर से जोड़ती है इसे pointing device के नाम से जाना जाता है माउस का आविष्कार Douglas C. Engelburt ने 1968 में किया था।

जब हम कंप्यूटर को ऑन करते हैं तो आपको माउस का cursor कंप्यूटर स्क्रीन पर तीर के समान दिखाई देता है इस माउस के पॉइंटिंग को हम कंप्यूटर display पर किसी भी दिशा में घुमा सकते हैं इसके लिये हमें माउस को समतल सतह पर हाथ की सहायता से चलाना पड़ता है माउस प्रयोग कंप्यूटर में ग्राफिक्स बनाने के लिये किया जाता हैं इस माउस में दो या तीन माउस बटन होते हैं हर बटन का अपना अपना अलग कार्य होता है माउस के नीचे एक रबर की बॉल होती है जो की mechanical mouse में प्रयोग होती है

ये रबर की बॉल जब समतल सतह पर घुमाया जाता है तो माउस pointer भी कंप्यूटर screen पर चलता हुआ दिखाई देता है जिसप्रकार इंसान के दो हाथ होते है उनसे हम किसी भी चीज को उठा सकता हैं और इधर उधर सरका सकते हैं ठीक इसीप्रकार माउस का भी कंप्यूटर से डाटा फ़ाइल और फोल्डर को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए करते हैं तथा इनकी फ़ाइल को इधर उधर ड्रैग करके रख सकते हैं इसमें जो बटन होते हैं वो हमारे हाथ की Bतरह काम करते हैं।

Mouse के भाग और उनका कार्य

माउस में बहुत सारे पार्ट्स होते हैं और उनका अपना अलग अलग कार्य होता हैं जो इसप्रकार हैं।

1.Buttons- माउस में दो या तीन buttons होते हैं वो right और दूसरा लेफ्ट buttons हैं right button का प्रयोग file को क्लोज या open करनें के लिए किया जाता है तथा left button का प्रयोग मेनू बार ओपन करनें के लिए किया जाता है।

2.Mouse wheel– माउस के ऊपर और बीच में एक पहिए के आकार का scroll button होता हैं जिसकी मदद से हम webpage को स्क्रॉल करके up और down या पेज को ऊपर नीचे व्हील के माध्यम सरकाया जा सकता हैं।

3.Ball, LED लेजर- माउस में बॉल तथा LED का प्रयोग किया जाता है जिन माउस में बॉल या रोलर का प्रयोग किया जाता हैं उन्हें mechanical mouse के नाम से जाना जाता हैं तथा जिन माउस में LED और लेजर प्रयोग किया जाता है उन्हें ऑप्टिकल माउस कहते है इन्हीं रोलर और LED की बजह से ही माउस pointer को आसानी से कंप्यूटर screen से देख पाते हैं।

4.Cable or wireless receiver- माउस में एक USB cable होती है उस cable के माध्यम माउस को कंप्यूटर से attach कर सकते हैं तथा wireless mouse का प्रयोग करने के लिये हमारे पास wireless port होना चाहिए।

माउस के प्रकार | Types of mouse

Mechanical mouse-

Mechanical mouse माउस का आविष्कार सन 1972 में Bill English ने किया था इसप्रकार के माउस के अंदर metallic या rubber की ball लगी रहती है

जब हम इस rubber ball को Pad पर रखकर किसी भी दिशा में घुमाते हैं तो माउस के अंदर sensor लगे रहते हैं जो कि माउस की movement को detect या catch करते हैं तो कंप्यूटर screen पर X या Y axis में माउस पॉइंटर मूव करता इस प्रकार के माउस बहुत पहले प्रयोग में लाये जाते हैं परन्तु अब इनके स्थान पर Optical माउस का प्रयोग हो रहा हैं।

Optical mouse-

Optical mouse में LED और DSP (digital signal processing) इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता हैं इस प्रकार के माउस mechanical माउस से ज्यादा Advance होते हैं इस तरह के माउस में mechanical mouse की तरह ball या रबर का का प्रयोग नहीं होता हैं इसके स्थान पर इसमें एक छोटा सा Bulb का प्रयोग किया गया है

जब हम माउस को pad पर घुमाते हैं तो माउस का pointer कंप्यूटर स्क्रीन पर हिलता हुआ दिखाई देता है और माउस में light जलती हुई दिखाई देती है इसप्रकार के माउस में USB Port होता है जिसकी मदद से डेस्कटॉप में आसानी से attache कर सकते हैं इन्हें mechanical माउस की तरह इसमें कोई परेशानी नहीं होती है।

Wireless mouse-

इस प्रकार का माउस बिना तार का होता है इसलिए इसे cordless mouse का नाम दिया गया है इस तरह के माउस radiofrequency technique पर आधारित होते है और ये इन्हें ही follow करते है wireless माउस का प्रयोग करने के लिये हमारे पास transmitter और receiver होना चाहिए transmitter को माउस में ही लगाया जाता है तथा receiver को अलग से कंप्यूटर में attach किया जाता है इस तरह के wireless माउस में electric तो रहती नहीं हैं इसके लिये एक छोटी बैटरी की जरूरत होती है जिसे अलग से लगाना पड़ता है।

Trackball-

trackball कुछ optical mouse की तरह होता है बस इसमें track ball का इस्तेमाल किया जाता है trackball का प्रयोग कंप्यूटर में input देने के लिये हमें अपनी अंगुली या अंगूठे की सहायता से ball को घुमाना पड़ता हैं इस माउस की गति तेज होती हैं जिसे आसानी से कंट्रोल करने के में समय लगता हैं। इनका प्रयोग ज्यादातर लैपटॉप या मोबाइल में किया किया जाता है।

Stylus mouse

इस प्रकार के mouse को ‘g’ stick mouse के नाम से जाना जाता है क्योंकि इसमें ‘g’ का मतलब Gordan होता है इसका आविष्कार Gordan Stewart द्वारा किया गया था ये पेन की तरह होते हैं इसप्रकार के mouse में पहिया wheel का प्रयोग होता है जिससे wheel को ऊपर नीचे सरकाया जा सकता है ज्यादातर इसका प्रयोग अधिकतर Touch screen devices में किया जाता है।

माउस की विशेषताएं और उपयोग

1. माउस में दो या तीन button होते हैं माउस के button से हम किसी भी webpage पर क्लिक कर सकते हैं माउस से एक बार राइट क्लिक करने पर मेनू बार ओपन होता हैं उसके अंदर cut, copy, past आदि के ऑप्शन आते हैं।
2.माउस से किसी भी फ़ाइल पर डबल क्लिक करके open कर सकते हैं फ़ाइल को select करके उसमें काम कर सकते हैं और फ़ाइल को ड्रैग कर खींच सकते हैं। माउस को किसी फ़ाइल पर तीन पर क्लिक करके पैराग्राफ को select कर सकते हैं।
3.माउस को फ्लैट surface पर घुमाने से कर्सर या pointer को किसी भी दिशा में move कर सकते हैं इसकी सहायता से किसी भी फ़ाइल पर दो बार क्लिक करने से ओपन कर सकते हैं।
4.माउस के ऊपर wheel होता हैं जिसको ऊपर नीचे सरकाने से किसी भी पेज को scroll यानी ऊपर नीचे कर सकते हैं इस प्रक्रिया को scrolling कहते हैं।
5.इसका महत्वपूर्ण कार्य जब हम माउस pointer को किसी भी फ़ाइल या फोल्डर पर रखने से हमें उस फ़ाइल या फोल्डर की details की जानकारी ले सकते हैं।
6.माउस का प्रयोग हम किसी भी फ़ाइल या फोल्डर पर राइट क्लिक करके जैसे open, copy, cut, past, rename, properties आदि कार्य कर सकते हैं।
7.माउस pointer की मदद से किसी भी फ़ाइल या फोल्डर को दबाये रहने से उसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक खींच कर ले जा सकते हैं।
8.माउस के wheel वाले button को अपनी ओर खींचने पर webpage को ऊपर की ओर सरका सकते हैं तथा फ़ाइल या webpage को नीचे की तरफ सरकाने के लिये wheel को बाहर की तरफ घुमाना पड़ता हैं।
9.आजकल desktop कंप्यूटर में ज्यादातर सभी जगह USB port बाले ऑप्टिकल माउस का प्रयोग किया जा रहा है जिसे आसानी से हाथ में पकड़ सकते हैं।

मुझे आशा है कि यह पूरा टॉपिक माउस क्या है या किसे कहते हैं इसका पूरा नाम और यह कैसे काम करती है इसके प्रकार mechanical mouse , optical mouse, wireless mouse, trackball , stylus mouse, तथा इसकी बिशेषताये लाभ या हानियाँ

आपको समझ आ गया होगा इसे शेयर कीजिये ओर कोई question हो या कोई सुझाव हो तो comment में लिखिए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *