RAM किसे कहते है | इसके प्रकार S RAM,D RAM

RAM किसे कहते है इसका फुल फॉर्म Random Access Memory है  यह कितने प्रकार की होती है S RAM और D RAM और रेम की विशेषताएं सब इस page पर है

RAM किसे कहते है ?

RAM को random access memory कहते हैं क्योंकि हम कोई भी applications run करते हैं वो डायरेक्ट ram से ही एक्सेस या रन होते हैं इसलिये इन्हें ram से ही direct एक्सेस किया जाता है इसलिए इसे random access memory कहते हैं ram को दूसरी लैंग्वेज में डायरेक्ट एक्सेस मेमोरी भी कहते हैं और हम कोई भी प्रोग्राम वर्ड फ़ाइल या multimedia वीडियो या ऑडियो, software को कंप्यूटर या मोबाइल में ओपन करते हैं वो इससे पहले वो ram के अंदर अपनी जगह बनाकर स्टोर रहती हैं और जब कभी इन सभी सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन पर work करते हैं तो वो डायरेक्ट ram से ही एक्सेस होती हैं

उदाहरण के तौर पर ऐसे बोल सकते हैं कि फुटबॉल को हम अच्छे से फुटबॉल के मैदान में ही खेल सकते हैं ना कि घर में ठीक इसी प्रकार कंप्यूटर या मोबाइल में किसी भी एप्लीकेशन पर काम करने से पहले उसे इनस्टॉल या रन ram में ही करना पड़ता हैं यह एक वोलेटाइल memory भी है क्योंकि जब हम कभी कंप्यूटर या मोबाइल बहुत सारी एप्लीकेशन पर work करते हैं तो यदि अचानक से सिस्टम की पावर बंद होने के बाद फिर से हम अपने सिस्टम को restart करते हैं तो सारी एप्लीकेशन बंद हो जाती है यानी सारा डाटा गायब या loss हो जाता हैं इसीकारण से इसे वोलेटाइल मेमोरी कहा जाता है।

RAM की विशेषताएं | Random access memory-

1.यह मेमोरी सभी मेमोरी की तुलना में ज्यादा महँगी होती हैं।
2.कंप्यूटर या मोबाइल की ram में सभी प्रोग्राम या एप्लीकेशन ram में ही इनस्टॉल होते हैं और यहीं से ओपन होते हैं बिना इसके हम किसी भी एप्लीकेशन पर काम नहीं कर सकते हैं।
3.यह मेमोरी कंप्यूटर या मोबाइल में सबसे ज्यादा use होती हैं इसलिए इसे working मेमोरी भी कहते हैं।
4.यह हमारे कंप्यूटर या मोबाइल का एक important device होती है जितनी अधिक ram हमारे सिस्टम में होगी उतना ही सिस्टम अच्छा काम करता हैं अगर हमारे सिस्टम में ram कम होती है तो सिस्टम की स्पीड कम हो जाती हैं और सिस्टम हैंग हो जाता है।
5.अगर कंप्यूटर पर काम करते समय electric power off होने से हमारा सारा डाटा loss हो जाता हैं।
6.रैंडम एक्सेस मेमोरी की स्पीड secondary memory की तुलना में बहुत ज्यादा होती है।
7.अगर हम अपने कंप्यूटर या मोबाइल में designing software या high quality के कंप्यूटर games को चलाने के लिये हमें ज्यादा ram की जरूरत पड़ती है।

RAM के प्रकार | Types of RAM-

S RAM

यह एक static random access memory है इसका मतलब होता है स्थिरता. इस ram में काम करने के लिये लगातार electric power की आवश्यकता होती है इस मेमोरी को डाटा याद रखने के लिये बार-बार refresh नहीं करना पड़ता है इसी कारण इसे static memory कहते हैं यह एक वोलेटाइल मेमोरी हैं जब भी हमारे कंप्यूटर सिस्टम की power supply बंद हो जाती है तो इसमें स्टोर किया हुआ डाटा खत्म हो जाता है।

S RAM की विशेषताएं | Characteristics of Static random access memory-

1.इसमें बहुत कम बिजली प्रयोग होती है।
2.यह dynamic random access memory से महँगी होती हैं।
3.यह dynamic random access memory से ज्यादा तेज गति से कार्य करती है ।
4.इसमें ज्यादा डाटा को स्टोर करने की क्षमता नहीं होती है।
5.इस टाइप की मेमोरी को बनाने के लिये मैनुफैक्चरिंग में ज्यादा खर्चा आता है।
6.इसका size बहुत ज्यादा होता हैं।
7.यह कंप्यूटर सिस्टम में कैश मेमोरी की जगह प्रयोग कर सकते हैं क्योँकि इसकी स्पीड बहुत ज्यादा है।
8.यह एक स्टेटिक मेमोरी हैं इसलिये इसे बार – बार refresh नहीं करना पड़ता हैं।
9.इसका घनत्व बहुत ही कम होता हैं इसलिये ये डाटा को स्टोर करनें के लिये ज्यादा जगह की जरूरत होती हैं।

D RAM

यह एक dynamic random access memory है यह S RAM के विपरीत कार्य करती है इस RAM को डाटा याद रखने के लिये बार – बार refresh करना पड़ता है इस dynamic memory में capacitor होते हैं जो कि धीरे धीरे power को खत्म करते रहते हैं यदि सारी power खत्म हो जाती है तो डाटा भी खत्म हो जाता हैं यह भी एक वोलेटाइल मेमोरी होती है क्योंकि जब power turn off यानी cut जाती हैं तो डाटा भी loss हो जाता हैं।

D RAM की विशेषताएं | Characteristics of dynamic random access memory-

1.इसका घनत्व बहुत ज्यादा होता है इसलिए ये डाटा को store के लिये ज्यादा जगह की जरूरत होती है।
2.इसमें ज्यादा डाटा को स्टोर करने की क्षमता अधिक होती है।
3.इसमें बहुत ज्यादा बिजली प्रयोग होती है।
4.यह एक dynamic मेमोरी हैं इसलिये इसे बार-बार refresh करनें की जरूरत पड़ती हैं।
5.यह static random access memory से बहुत कम महँगी होती है।
6.इस टाईप की मेमोरी को बनाने के लिये मैनुफैक्चरिंग में बहुत कम खर्चा होता हैं।
7.यह SRAM से सस्ती होती है व गति में काफी धीमी हैं।
8.इस dynamic random मेमोरी का size कम होता है।
9.इस dynamic random मेमोरी को एक सामान्य मेमोरी के रुप में प्रयोग में ले सकते हैं।
10.यह मेमोरी static random access memory के उल्टा कार्य करती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *