Belt | Rope | Chain Drive क्या है और प्रकार

Belt drive,rope drive और chain drive क्या है औ इनके सभी प्रकार इस पेज पर है Belts और Ropes का use एक shaft से दूसरे shaft तक pulley के माध्यम से power transmit करने के लिए किया जाता है। Power का transmission इन निम्न बातो पे depend करता है :

Belt की velocity
Pulley में लगे हुए belt में tension
Belt और छोटे pulley के बीच arc of contact

Belt Drive

belt drive in hindi

Belt drive को मुख्य तीन भागो में विभाजित किया गया है:
Light drive: कम power के transmission के लिए, जब belt की speed लगभग 10 m/s हो।
Medium drive: मध्यम power के transmission के लिए, जब belt की स्पीड 10 – 22 m/s हो।
Heavy drive: ज्यादा power के transmission के लिए, जब belt की स्पीड 22 m/s से अधिक हो।

Flat belt drive के प्रकार:

Open belt drive : Open belt drive या OBD का use वहां किया जाता है जहाँ shaft parallel हो और same direction में power transmit करनी हो ।

Cross or Twist belt drive: इसका use वहां किया जाता है जहाँ shaft parallel में हो और opposite direction में लगी हो ।

Quarter turn belt drive: इसे right angle belt drive के नाम से भी जाना जाता है। जहाँ shaft right angle यानि 90o में लगी हो वहां इसे लगाया जाता है।

V- belt drive:

V- बेल्ट का use ज्यादातर factories एंड workshops में काम जगह में एक pulley से दूसरे pulley तक ज्यादा power transmission के लिए किया जाता है । V-बेल्ट trapezoidal shape में होते है और ये endless भी होते है । V-बेल्ट के बीच में जो angle बनता है वो 30o-40o का होता है । V-बेल्ट ड्राइव एक positive ड्राइव है क्युकी इसमें belt और pulley groove के बीच का angle लगभग न के बराबर होता है । इस बेल्ट drive में हमें ज्यादा velocity ratio भी मिलता है । V- बेल्ट के लिए pulley का construction थोड़ा complicated है ।

Rope drive

rope drive in hindi

Rope drive का use हमें मुख्य रूप से एक pulley से दूसरी pulley तक भारी मात्रा में एक निश्चित दुरी तक power transmission करने के लिए किया जाता है । Flat बेल्ट का उसे 8 meter की दूरी तक ही निश्चित है परन्तु rope ड्राइव का उसे हम ज्यादा दूरी के लिए power transmission में कर सकते है । V-बेल्ट की तुलना में हमें rope ड्राइव में ज्यादा frictional grip मिलती है ।
Rope ड्राइव मुख्य रूप से दो तरह की होती है:
1. Fibre rope: Fibre rope का use 60 meter की दुरी तक के लिए किया जाता है । इसमें हमें ज्यादा mechanical efficiency भी मिलती है।

2. Wire rope: Wire rope का use लगभग 150 meter की दुरी के लिए किया जाता है । Wire rope ज्यादा मजबूत और भरोसेमंद है । इसका application हमें cranes, elevator, suspension bridge, आदि जगहों पे देखने मिलता है।

Chain drive

chain-drive-in-hindi

Wire और rope drive में slipping की समस्या को दूर करने के लिए हम chain ड्राइव का use करते है । Chain rigid link से मिलकर बनी होती है जो की आपस में hinge joint से जुडी होती है । Chain ड्राइव का use बहुत ही कम दुरी में power transmission के लिए किया जाता है जैसे की bicycle, motorcycle, इत्यादि । Slipping की समस्या न होने के कारण हमें इसमें perfect velocity ratio मिलता है । Metal की बने होने के कारण belt और rope ड्राइव की तुलना में यह कम जगह लेती है । Chain ड्राइव में हमें सबसे ज्यादा mechanical efficiency मिलती है लगभग 98 प्रतिशत । Chain ड्राइव में cost ज्यादा लगती है और इसका mounting accurate होना चाइये ।

Chain ड्राइव के प्रकार:

1. Hoisting and Hauling Chain: इस प्रकार की chain का use parts को एक जगह से दूसरे जगह पे ले जाने और रखने के लिए किया जाता है। इसके कुछ मुख्य निम्न प्रकार है:

a. Chain with oval link: यह chain अंडा नुमा आकार में होती है। यह welded joint के मदद से जुडी होती है। इसका application कम भार को उठाने के लिए किया जाता है जैसे chain hoists ।

b. Chain with square link: यह chain square आकार की होती है। इसका manufacturing लागत oval link की तुलना में काम होता है। Overloading की समस्या होने से इन chains में kinking होने लगती है।

2. Conveyor Chain: इस प्रकार की चैन का उसे elevator व conveyor जैसी application में होता है, । यह चैन malleable cast iron की बनी होती है । इन चेन्स में हमें smooth running नहीं मिलती है । इन चेन्स का उपयोग कम तीव्रता वाली जगह पे किया जाता है जहां स्पीड 3 to 12 kmph होती है ।

3. Power transmitting Chain: इन चेन्स में ज्यादा lubrication की जरूरत होती है । इसके कुछ मुख्य प्रकार है:
1. Block चैन: यह चैन जब sprockets के साथ संपर्क में आती है तो इनमे ज्यादा आवाज़ की समस्या है ।
2. Bush roller चैन: यह चैन strong और simple होती है और इसमें अच्छी service भी मिलती है ।

आशा है आपको belt drive,rope drive,chain drive क्या है और इनके सभी प्रकार समझ आ गये होंगे कमेंट कीजिये यदि किसी दुसरे टॉपिक पर नोट्स चाहते है और इसे शेयर जरूर कीजिये

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *