विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण क्या है?मात्रक,विमीय सूत्र

विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण क्या है

विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण का मान विद्युत द्विध्रुव के दो आवेशों में से किसी एक आवेश और दोनों आवेशों के बीच की दूरी ((यानि द्विध्रुव की लम्बाई) के गुणनफल के बराबर होता है यदि हम +q आवेश लेते हैं और द्विध्रुव की लंबाई यानी दोनों आवेशों के बीच की दूरी 2l है तब विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण  \fn_jvn \vec{p}

\fn_jvn \vec{p}=q2l=2ql

विद्युत द्विध्रुव का मात्रक कूलाम-मीटर है और इसका विमीय सूत्र \fn_jvn ATL=M^{0}LTA होता है

विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण की दिशा ऋण आवेश से धन आवेश की ओर होती है इसलिए यह एक सदिश राशि है

इसका द्विध्रुव अक्ष वह रेखा होती है जो दोनों आवेशों को मिलाती है द्विध्रुव कितना शक्तिशाली है यह विद्युत द्विध्रुव अघूर्ण के मान पर निर्भर करता है

यह विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण आपके समझ आ गया होगा यदि कोई प्रश्न हो तो कमेंट में लिखें और इसे शेयर जरूर करें नीचे बटन है

One comment on “विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण क्या है?मात्रक,विमीय सूत्र

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *