बल की परिभाषा | प्रकार | विमीय सूत्र | मात्रक

बल किसे कहते है si मात्रक और परिभाषा प्रकार

बल वह कारक है जो किसी भी रुकी हुई अथवा थमी हुई वस्तु में परिवर्तन ला सकता है जब कोई वस्तु किसी भी सीधे रस्ते पे चल रही होती है तो उसे रोकने के लिए या उसकी गति को और तेज करने के लिए जिस कारक का उपयोग किया जाता है उसे ही बल (force) कहते है

बल का SI unit (मात्रक) newton होता है विमाय सूत्र = [M L T-2] बल एक सदिश राशि है

बल किसी भी वस्तु पर उसके द्रव्यमान (mass) और वजन और आकार के हिसाब से अलग अलग लगता है क्योंकि बल के परिमाण और दिशा दोनों होती है यह एक सदीश (vector) मात्रा (quantity) है इसके सदीश मात्रा होने से बल यह दर्शाता है कि यह एकल बिंदु पे भी केंद्रित है
विज्ञान कहता है कि बल एक खीचने और धकेलने की प्रक्रिया होती है जो की उसकी वजन के हिसाब से उसके वेग बदलता है

बल(force) दो प्रकार के होते है

  1. संतुलित (balanced force)
  2. असंतुलित (unbalanced force)

1) संतुलित बल (balanced force)

यह एक ऐसा बल है जिसमे दोनो तरफ समांतर बल ही लगाया जाता है जिससे की दोनों तरफ में कोई भी प्रस्ताव नहीं होता जैसे की रस्सी को दोनों तरफ से खींचना, तराजू ,झूला यह सब संतुलित बल पे ही काम करते है

2)असंतुलित बल(unbalanced force)

यह वह बल होता है जिसमे प्रस्ताव होता है जैसे की किसी रस्सी को दोनों तरफ से खींचा जाए और वह एक तरफ के लोगो को दूसरी तरफ ले आए , तराजू का एक तरफ झुक जाना आदि

Isaac Newton के पहले गति के नियम(third law of motion) में यह साफ़ दर्शाया है कि जब भी कोई वस्तु रुकी हुई होती है या कोई भी वस्तु सीधे रस्ते पे चल रही होती है तो वह सीधे सीधे ही चलती रहती है जब तक उसपर कोई भी बाहरी बल न लगाया जाए तब तक वह न आगे बढ़ती है और ना रूकती है बल वह कारक है जो वस्तु की स्थति परिवर्तन करता है

उदहारण-

1)दरवाजे को खोलने या बंद करने के लिए खीचना अथवा धकेलना
2) चलती हुई वाहन को रोकने के लिए ब्रेक (break) लगाना
3)किसी रुकी हुई वस्तु को धक्का मारना जिससे की वह चलने लगे
4)किसी भी वस्तु को एक जगह से दूसरी जगह पहुँचाना
5) ऊपर से गिरती हुई कोई वस्तु गुरुत्वाकर्षण की वजह से जमीन पे आ गिरती है यह भी बल है

बल की परिभाषा,S.I मात्रक,इसके प्रकार संतुलित बल और असंतुलित बल की जानकारी समझ आ गयी होगी इसे शेयर करें अपने दोस्तों के साथ नीचे बटन है और प्रश्न के लिए comment करें

One comment on “बल की परिभाषा | प्रकार | विमीय सूत्र | मात्रक

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *