डाप्‍लर प्रभाव क्‍या है। परिभाषा । सूत्र।सीमाएंं ।उपयाेेग।

डाप्‍लर प्रभव किसे कहते हैै उदाहरण देकर समझाइये तथा इसके उपयोग बताइये।

दोस्‍तो इस लेख मे हम ध्‍वनि तरंगो की एक विशेष घटना डाप्‍लर प्रभाव के बारे मे जानेगे ।तथा उसकी सीमाए सूत्र तथा उचित उदाहरण देकर आपको इससे संबधित जितने भी प्रश्‍न परीक्षा मे बन सकते उन सभी को देखेगे ।

डाप्‍लर  प्रभाव

डाप्‍लर प्रभाव को सर्वप्रथम आस्ट्रिया के भौतिक विज्ञानी क्रिस्‍चयन जोहान डॉप्‍लर ने 1842 ईसवी मे प्रस्‍तुत किया था ।

इनके अनुसार

जब किसी ध्‍वनि स्‍त्रोत और श्रोता के बीच आपेक्षिक गति होती है तो श्रोता को ध्‍वनि स्‍त्रोत की वास्‍ततिक आव्रत्ति बदलती हुयी प्रतीत होती है ।

इस घटना को डाप्‍लर प्रभाव कहा जाता है।

डाप्‍लर प्रभाव ध्‍वनि , प्रकाश तथा जल तरंगो आदि मे देखा जा सकता है ।

डाप्‍लर प्रभाव की सीमाऐ

  • जब ध्‍वनि स्‍त्रोत और श्रोता के बीच होने वाली आपेक्षिक गति के कारण श्रोता और ध्‍वनि स्त्रोत के बीच की दूरी बढ रही होती है तो ध्‍वनि की आव्रत्ति कम होती हुयी प्रतीत होती है।
  • जब ध्‍वनि स्‍त्रोत और श्रोता के बीच आपेक्षिक गति के कारण ध्‍वनि स्‍त्रोत और श्रोता के बीच की दूरी घट रही हो तो ध्‍वनि की आभाषी आव्रत्ति बढती हुयी प्रतीत होती है।

नीचे दिया गया सूत्र से हम श्रोता द्वारा प्राप्‍त तरंग और ध्‍वनि स्‍त्रोत  की वास्‍ततिक आव्रतियों के मध्‍य संम्‍बन्‍ध बता सकते है

आभाषी आव्रत्ति =(प्रेक्षक के सापेक्ष ध्‍वनि का वेग)/(स्त्रोत  के सापेक्ष ध्‍वनि का वेग ×वास्‍ततिक आव्र‍त्ति )

डाप्‍लर प्रभाव के उदाहरण

  • डाप्‍लर प्रभाव के कारण ही जब हमे स्‍टेशन पर आती हुयी ट्रेन की शीटी की आवाज बढती हुयी आव्रत्ति (अधिक आव्रत्ति) की सुनाई देती है जबकि जब ट्रेन स्‍टेशन से दूर की तरफ जाती है तो वही आवाज की आव्रत्ति हमेघटती हुयी प्रतीत होती है।यह सब कुछ डाप्‍लर के प्रभाव के कारण होता है ।
  • प्रकाश मे भी डाप्‍लर के प्रभाव के आधार पर हम ग्रहो तथा गैलेक्सियो ,तारो के बारे मे बता सकते है कि कोई गैलेक्‍सी प्रथ्‍वी से कितनी दूर जा रही है ।

डाप्‍लर प्रभाव के उपयोग

  • डाप्‍लर प्रभाव के  कारण तारो सितारो का वेग ज्ञात किया जाता है ।
  • डाप्‍लर प्रभाव के कारण ट्रैफिक पुलिस बाहनो की गति का पता लगा सकती है कि कोई व्‍यक्ति कितने वेग से बाहन चला रहा है
  • डाप्‍लर प्रभाव के आधार पर ही सर्वप्रथम वैज्ञानिक हब्‍बल ने बताया कि विश्‍व का प्रसार हो रहा है।तथा सभी आकाशीय पिंड एक दूसरे से दूर जा रहे है।
  • बिग बैंग सिद्धांत की व्‍याख्‍या भी डाप्‍लर प्रभाव के आधार पर की जा सकती है।

हम आशा करते है आपने डाप्‍लर प्रभाव को अच्छे से समझा है तथा अब आप डाप्‍लर प्रभाव से भलिभांति परिचित हो गये है अगर आपकेा हमारा ये article अच्‍छा लगा है please अपने दोस्‍तो के साथ share जरूर करें ।

धन्‍यवाद।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *