गुरुत्व केंद्र और केन्द्रक किसे कहते है : Applied Mechanics Notes In Hindi

गुरुत्व केंद्र या Center of Gravity किसे कहते हैं और केन्द्रक या Centroid क्या है यह प्रश्न Applied Mechanics या अनुप्रयुक्त यांत्रिकी का है जो Polytechnic Diploma और Engineering Graduation का Subject है

गुरुत्व केंद्र या Center of Gravity की परिभाषा

किसी भी वस्तु या पिंड का गुरुत्व केंद्र वह केंद्र होता है जिस पर उसका पूरा भार केंद्रित होता है जैसे कोई वस्तु है उस पर कोई ऐसा बिंदु जरूर होता है जहां धागा लगाकर उसे उठाया जाए तब पूरी वस्तु संतुलन अवस्था में उठती है

जैसे कोई गेंद आपने देखा होगा खिलाड़ी गेंद को अपनी उंगली पर घुमा लेता है किसी बड़ी गेंद को तब वह खिलाड़ी गेंद पर एक ऐसी जगह ढूंढता है जो बीच में हो गुरुत्व केंद्र की से संबंधित है

हर एक अलग-अलग आकार और आकृति की वस्तुओं का गुरुत्व केंद्र अलग-अलग जगह होता है जैसे खोखले बेलन का गुरुत्व केंद्र, ठोस शंकु का गुरुत्व केंद्र, अर्ध गोले का गुरुत्व केंद्र, त्रिभुज का गुरुत्व केंद्र इत्यादि

बेलन का गुरुत्व केंद्र

बेलन कि अक्ष की आधी दूरी या h/2 पर बेलन का गुरुत्व केंद्र होता है

गोले का गुरुत्व केंद्र

किसी गोले का गुरुत्व केंद्र गोले के केंद्र पर ही होता है

अर्ध गोले का गुरुत्व केंद्र

किसी अर्ध गोले का गुरुत्व केंद्र उसकी ऊर्ध्वाधर अक्ष पर आधार से 3R/8 दूरी पर होता है

शंकु का गुरुत्व केंद्र

किसी शंकु का गुरुत्व केंद्र उसकी ऊर्ध्वाधर अक्ष पर आधार से h/4 दूरी पर होता है

केन्द्रक या Centroid क्या है

चतुर्भुज का केन्द्रक

चतुर्भुज की भुजा 1 और 2 दोनों की मध्य बिंदु निकालकर उन पर परपेंडिकुलर रेखा खींची जाए तब वह दोनों रेखा जिस बिंदु पर एक दूसरे को काटती हैं उसे उस चतुर्भुज का केन्द्रक या सेंटर आफ ग्रेविटी कहते हैं

अर्धवृत्त का केन्द्रक

अक्ष से 4r/3π दूरी पर अर्धवृत्त का केन्द्रक होता है यानी वृत के केंद्र से इतनी दूरी पर खिसक जाता है

त्रिभुज का केन्द्रक

त्रिभुज की तीनों मध्यकाओं यानी भुजाओं के मध्य बिंदु को उसके सामने वाले कोने से मिलाने को पर जो रेखा प्राप्त होती है तब तीनो भुजाओं से रेखा प्राप्त करें तब एक कटान बिंदु प्राप्त होगा वही त्रिभुज का केन्द्रक होगा

हमे आशा है कि गुरुत्व केंद्र या Center of Gravity किसे कहते हैं और केन्द्रक या Centroid क्या है आपको समझ आ गया होगा Applied Mechanics या अनुप्रयुक्त यांत्रिकी के घर्षण,बलों का संयोजन एवं वियोजन, बलों का संतुलन, गति के नियम, कार्य- शक्ति एवं ऊर्जा, सरल उत्पाथक मशीनें, एक पिंड की गति, आघूर्ण एवं उनके अनुप्रयोग, समांतर बल एवं बल युग्म अदि चैप्टर है आप कमेंट में लिखिए आपको पहले कौन सा चाहिए

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *