Ohm का नियम क्या है ?पूरी जानकारी

Ohm का नियम क्या है  इसकी परिभाषा हन्दी में Voltage और Current I में सम्बन्ध और इसके अनुप्रयोग और Ohm का मात्रक सबसे पहले में बता दूँ की की इस नियम का नाम जर्मन वैज्ञानिक जार्ज साइमन ओम के नाम पर रख क्युकी  1828 में इन्होने ही Voltage यानि विभवान्तर और Current के बीच सम्बन्ध का अपने प्रयोगों से पता लगाया जिसे Ohm का नियम नाम दिया गया

Ohm का नियम

Ohm के नियम की परिभाषा

यदि किसी चालक यानि Conductor की भौतिक परिस्थितियों यानि लम्बाई,ताप,दाब,अदि में कोई परिवर्तन नहीं किया जाये तब उस चालक के सिरों पर उत्पन्न विभवान्तर उसमे Flow हो रही धारा के समानुपाती होता है

यदि लगाया गया विभवान्तर V मान लेते है और बहने वाली धारा I मान लेते है तब Ohm के नियम से दोनों में सम्बन्ध-
V  I
V=RI
यहाँ पर R एक Constant है जिसे Resistance यानि प्रतिरोध कहते है इस  Ω से दर्शाते है
R=V/I

विभवान्तर और धारा के बीच ग्राफ

विभवान्तर और धारा के बीच ग्राफ
यदि चालक के विभवान्तर और धारा के बीच ग्राफ खीचे तो एक सरल रेखा प्राप्त होती है जो बताती है की विभवान्तर के बड़ने पर धारा भी बड़ेगी और विभवान्तर के कम होने पर धारा भी कम होगी

Ohm के नियम की Limit यानि सीमायें

  • Ohm का नियम Metal Conductor के लिए ही apply होता है
  • ताप और अन्य भौतिक परिस्थतियों Constant रहे यानि कोई परिवर्तन न हो
  • और इनके कारण चालक में Strain यानि विकृति पैदा न हो 
I hope आपको Ohm के नियम में अब कोई problem नहीं होगी इस page को share करें अपने friends के साथ social media पर Button नीचे है और कोई सवाल हो तो comment में बता सकते है

Comments