सरल और संयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता

सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता

सरल सूक्ष्मदर्शी और संयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता क्या है और इसका सूत्र क्या है

सरल सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता

प्रतिबिम्ब देखने पर बना दर्शन कोण और स्पष्ट दृष्टि को दूरी पर रखी वस्तु को देखने पर बना दर्शन कोण के अनुपात को सरल सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता कहते है

सरल सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता कासूत्र-

अवर्धन क्षमता =प्रतिबिम्ब को देखने पर बना दर्शन कोण/वस्तु को देखने पर बना दर्शन कोण

\fn_jvn m=\frac{\alpha }{\beta }

सयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता

अंतिम प्रतिबिम्ब को देखने पर बना दर्शन कोण और स्पष्ट दृष्टि की दूरी पर रखी वस्तु को देखने पर बना दर्शन कोण के अनुपात को सयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता कहते है

सयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता सूत्र-

आवर्धन क्षमता =अंतिम प्रतिबिम्ब को देखने पर बन दर्शन कोण/स्पष्ट दृष्टि की दूरी पर रखी वस्तु को देखने पर बना दर्शन कोण

\fn_jvn m=\frac{\alpha }{\beta }

आशा है सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता आपको समझ आ गया होगा कोई प्रश्न हो तो कमेंट में लिखें और इस पेज को शेयर जरूर करें

3 comments on “सरल और संयुक्त सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *