What Is Vibration In Hindi ?

Vibration क्या होता है यह कितने types के होते है
Vibration क्या है और यह कितने Types के होते है इसकी information इस Page में है जब कोई machine कार्य करती तो उसके elastic parts पर कुछ समय के लिये कुछ force कार्य करते है यदि हम उन forces को हटा  ले तो ऐसी condition में part balancing स्थिति से displace हो जाती है उसे हम vibration कहते है। या जब किसी समय अन्तराल में  उस body की गति repeat होती है तो उसे vibration कहते है।जैसे की आप जानते है की जब हम spring खीचते है और उसके बाद उसे छोड़ देते है तो वह कुछ समय तक हिलती रहती हे तो उसे हम vibration कहते है।
What Are Gears IN HIndi
Soalr Pannel IN HIndi

Free or Natural Vibration in hindi

जब किसी object के प्रारम्भिक displace के दौरान उस object पर कोई बाहरी force न लग रहा हो तो object  में होने वाला vibrate(कम्पन) को हम Free or Natural Vibration कहते है।
     जैसे की हम pendulum को धक्का या puss करते है तो वह दोलन(अपनी एक्सिस के right and left में motion करता  है।) तो उसे हम free or natural vibration कहते है।
Turbine क्या है ?

Forced Vibration

हम समय-समय पर extra force  लगाते हे तो वह forced vibration कहलाता
जब किसी machine में vibration होता है तो उस vibration को बनाये रखने के लिये हम समय-समय पर extra force  लगाते हे तो वह forced vibration कहलाता  है। जब हम machine को  execute करते है तो  वह vibrate होने लगती है जब हम उसको power या load देते है तो उस machine का vibration बना रहता है।

             जैसे की जब हम automobile (bikes or cars) को स्टार्ट करते हे तो  वह vibrate होती है  इसी vibration को बनाये रखने के  लिये एक्सीलेटर देते है इससे vibration बड़ जाता है।

Damped Vibration

इस प्रकार के vibration को हम damped vibration कहते है

जब किसी object के vibration के प्रत्येक cycle में उस  object  का आयाम(amplitude) धीरे-धीरे कम होता जाता है फिरएक समय ऐसा आता है जब वह स्थिर हो जाता है।तो इस प्रकार के vibration को हम damped vibration कहते है। damped vibration बहुत इम्पोर्टेन्ट होता है जो machines को बैलेंस करने के लिये किया जाता है क्यूंकि जब machine का vibration बढ़ जाता है तो उसको मैनेज करने के लिये हम उस machine का vibration कैलकुलेट करते है।
      जैसे की आप जानते हो की जब हम  झूला या  एक रस्सी से पत्थर बाँध कर उसे लटकाते है और उसे धक्का मारते हे तो वह कुछ समय तक left and right में गति करता है तो पत्थर या झूला वायु और ग्रेविटी force के करण वह कुछ समय बाद रुक जाता है।
Read करने के लिए thanks इस page को एक click में facebook पर share कर सकते है आप जरूर share करें और हमारी website को subscribe करें जिससे आप new Article direct message से पा सकते है नीचे subscription box है email fill कर करें 

Comments

Note- Uc Browser हमारी website के Design और Text को बिगाड़ देता है Google Chrome या अन्य अच्छे Browser में website Open करें जिससे आप सही तरह से Projects देख पायेंगें और उन्हें read कर पायेंगें